सरसों की खेती कैसे करें | sarso ki kheti kab hoti hai?

दोस्तों के साथ शेयर करे

सरसों की खेती कैसे करें ? sarso ki kheti kab hoti hai भारत जैसे कृषि प्रधान देश में गाँव में लोगो का ज्यादातर कमाई का जरिया खेती ही हैं। ऐसे में देश में कृषक कई तरह की खेती करते हैं। तकनीक के ज़माने में लोगो का ट्रेंड भी कई तरह की फसलों की बहाई की और रुझान बढ़ रहा हैं। 

ऐसी ही खेती करने वाले हमारे अन्नदाता सरसों की भी खेती हैं . क्या आप जानते हैं की सरसों की खेती कब होती हैं ? सरसों की खेती किस महीने में की जाती हैं ? अगर नही तो आप सही जगह पर आये हैं। 

इस लेख में आपको सरसों की खेती से जुडी पूरी जानकारी देने की कोशिश की जायेगी। 

सरसों की खेती करने सही तरीका क्या है ?

सरसों की फसल का रबी की तिलहनी की फसल में एक महत्वपूर्ण स्थान हैं। सरसों की खेती हमारे देश में काफी सीमित स्थान पर की जाती हैं . सरसों की खेती करने के लिए एक समय निस्चित होता हैं और इसी समय में सरसों की खेती की जा सकती हैं। 

sarso ki kheti kab hoti hai सरसों की फसल एक रबी की फसल हैं इसे फसल की बहाई ठंडी के मौसम में की जाती हैं। सरसों की फसल को अच्छे से उगाने के लिए शीत ऋतू का बहुत महत्वपूर्ण हैं . 

सरसों की खेती करने का सही समय ? sarso ki kheti kab hoti hai

जैसा की हम जानते हैं की सरसों एक रबी की फसल हैं। सरसों की खेती के लिए ठन्डे मौसम की आवश्यकता होती है .रबी के फसल के परिवार की इस फसल की बहाई अक्टूम्बर माह से की जाती हैं। इस फसल की कटाई मार्च माह तक हो जाती है। 

सरसों की फसल के लिए बीज कैसे चुने ? 

सरसों की खेती के लिए हमेशा Hybrid बीज का ही इस्तेमाल करे। इस प्रकार क बीज खरीदने के साथ ही आपको इस बात की भी जानकारी रखनी होगी की आपको कितने स्थान पर कितनी बीज की बहाई करनी हैं . सरसों की फसल के की बहाई के लिए 5 से 6 किलोग्राम बीज प्रति हैक्टर के दर से होनी चाहिए। 

हाइब्रिड सरसों की खेती ? 

वैसे तो सरसों की फासले कई अलग – अलग प्रकार की होती हैं। हाइब्रिड सरसों की खेती के उन्नत प्रकारों में यह चार मुख्य प्रकार होते हैं . सरसों की हाइब्रिड खेती में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होते हैं। 

पायनियर- 45s46 

यह सरसों की खेती में सबसे उन्नत किस्म की मानी जाती हैं। इस प्रकार के बीज से उगने वाले पोधो में से सबसे ज्यादा फलिया निकलती हैं . इस प्रकार के सरसों के एक फूल में से करीब 15 से 16 स्वास्थ्य दाने पाए जाते हैं।

बायर-5222 

सरसों की खेती में हाइब्रिड प्रकार की खेती में से यह किस्म दूसरी सबसे अच्छी प्रकार की किस्म मानी जाती हैं। इस प्रकार के सरसों की खेती ज्यादातर राजस्थान, हरियाणा, पंजाब इतियादी राज्यों में की जाती हैं। इस किस्म के सरसों में तक़रीबन 42 प्रतिशत तेल की मात्रा पाई जाती हैं।

पायनियर 45s42 

इस प्रकार की सरसों की खेती की मांग सबसे ज्यादा सबसे ज्यादा मानी जाती हैं इस हाइब्रिड सरसों के पत्तो और फलियों में से, एक फली में से कम से कम 12 से 15 तक शुद्ध बीज निकल जाते हैं। इस सरसों को पकने में कम से कम 125 से 130 दिन लग जाते हैं। इस सरसों को मैदानी भागों में सबसे ज्यादा बोया जाता हैं ताकि फसल अच्छी हो।

श्रीराम 1666 

हाइब्रिड प्रकार की सरसों की खेती में यह सबसे ज्यादा अच्छी मानी जाने वाली फसलों में से एक हैं। इस सरसों की के डालियों में बालिया ज्यादा आती है। इस पोधे की ऊंचाई तक़रीबन 170 सीएम तक होती हैं। इस प्रकार के सरसों में भी तक़रीबन 45 प्रतिशत तक तेल की मात्रा पाई जाती है।

गेंहू की फसल कैसे करें ,आर्टिकल पढे .

सरसों की बुवाई कब और कैसे करे ?

सरसों के फसल की बुवाई साल के नॉवे माह में यानी अक्टूम्बर माह में की जाती हैं। सरसों की बुवाई करने के लिए अच्छे किस्म के बीज का ही इस्तेमाल करे . आजकल बाजारों में नकली बीज का प्रचलन भी काफी तेजी से हो रहा हैं तो इनसे बचे और असली बीज का इस्तेमाल करे। 

सरसों की बहाई करते समय किन बातों का ख्याल करे ?

सरसों की खेती करते समय कुछ इन बातों का ख्याल रखे . ताकि खेती के बाद आपको ज्यादा समस्या का सामना नही करना पड़े। 

  • खेती करने से पहले एक बार अपने खेत में ट्रेक्टर या बलगाड़ी की सहायता से खेती में खडाई करवा दे , इससे खेत में नमी आएगी और सरसों के बीज जमींन के अंदर तक जायेंगे .
  • खेती करने के साथ ही इस बात की ख्याल करे की इस प्रकार की फसल ठंडी में होती हैं तो ठंडी के समय ही इस प्रकार की खेती करे . 

सरसों कितने दिन में तैयार हो जाती हैं ?

सरसों की खेती की बहाई अक्टुम्बर माह की जाती हैं . इसके बाद इस फसल की कटाई मार्च माह में की जाती हैं . हालाँकि सरसों की फसल की पूर्ण रूप से कट कर 120 से 150 दिन में हो पक कर तैयार हो जाती हैं। 

सरसों के फसल की बहाई कब की जाती हैं ?

सरसों की खेती की बहाई कब की जाती हैं यह जानना बेहद जरुरी हैं . सरसों के फसल की बहाई अक्टुम्बर माह में की जाती हैं। यह सही समय होता हैं फसल की बहाई करने के लिए। सरसों की फसल के लिए ठंडी के मौसम में ही होती हैं। 

 इसे भी पढ़े….. 

  1. पशु किसान क्रडिट कार्ड योजना ऑनलाइन आवेदन 
  2. sukanya samriddhi yojana scheme 2020 प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्वि योजना

सरसों की फसल कब काटी जाती है ?

सरसों की फसल सामान्य तौर पर 120 से 150 दिन में पाक के तैयार हो जाती है . अक्टूम्बर में बोई जाने वाली इस फसल की कटाई मार्च माह तक की जाती हैं। अक्टुम्बर से मार्च माह तक 

सरसों की बीज दर क्या है ?

बीज दर को सामान्य भाषा में समझे तो इसका अर्थ होता हैं .की एक हक्टैर में कितने किलोग्राम बीज की बुवाई की जाती हैं। वैसे सामान्य तौर पर देखा जाए तो सरसों की फसल के लिए सिंचित क्षेत्रों में सरसों की फसल की बुवाई के लिए 5 से 6 किलोग्राम बीज प्रति हैक्टर के दर से प्रयोग करना चाहिए।

सरसों की फसल के लिए सिंचाई

सरसों की फसल के लिए सिंचाई का भी काफी अहम महत्त्व हैं . इसके लिए पहली बार जब फूल आ जाए और उस समय सिंचाई करनी चाहिए और दूसरी बार फलियों में दाना भरने की अवस्था में सिंचाई करनी चाहिए। 

निष्कर्ष

इस लेख में आपको सरसों की खेती कैसे करें ? के बारे में बताया गया हैं . उम्मीद करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा। उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योजना के बारे मैं जाने .

Leave a Comment